KUURMA

Kuurma/tortoise is famous in Hindu mythology mainly for two facts. One, kuurma happens to be the 3rd of 5 sub – pranic forces. Second, lord Vishnu took incarnation in the form of a kuurma on which a mountain was established and ocean was churned. In yoga book, there is available some information on kuurma praana . For example, Swami Yogeshwaraanand in his book Praana Vijnaana says that in rajo guna state, kuurma prana is responsible for opening and closing of eyelids. In saatvic state, this praana leads to Traataka, the position of eye without opening and closing of eyelids. Then one is able to see various colors. Some texts have referred that on concentrating on kuurma nadi, one gets stabilization of chitta, freedom from hunger etc.. But puraanic and vedic texts indirectly provide much more information on kuurma, though efforts are still needed to decipher it. It appears that the stage earlier than kuurma is the burning of one’s sins. Only then the next stage of kuurma can be attained. There seem to be two parts of kuurma – front and back. The back part requires burning of sins by efforts. What is the nature of front part? It seems to be related with creation, a creation after complete annihilation, imbibing life force into gross matter, or raising different levels of consciousness. In rigvedic hymn, seer kuurma strives to become sun and it’s different forms( It can be said that sun without rays is kuurma, because the main characteristic of kuurma has been stated to be that it knows how to go inwards). This may represent the highest form of kuurma praana. But we have to remain careful, because in puraanic texts, soma/ moon/ Vishnu has been shown to take incarnation in the form of kuurma and therefore it can easily be guessed that moon, and not the sun, is the highest form of kuurma.

          In puraanic texts, kuurma has been named as Mantharak, the slow moving. What does it mean at spiritual level? There are two types of motions in modern sciences – ionic motion and electronic motion. All our body functions have been stated to be working on ionic motion whose speed is very slow, say few centimeters per second. On the other hand, electronic motion is very fast, say speed of light. Therefore, what is desirable is that somehow we may be able to reach that highest speed. It seems that this can be achieved by the other aspect of kuurma – kachchapa or Kashyapa.

कूर्म

टिप्पणी : कूर्म शब्द की निरुक्ति क्या है, यह स्पष्ट नहीं है । शतपथ ब्राह्मण ७.५.१.५ में कूर्म को सृष्टि करने वाला कहा गया है(करोति इति कूर्म:)। लेकिन पुराणों में कूर्म की शक्ति कमठी का उल्लेख है । कर्मठ शब्द की निरुक्ति शब्दकल्पद्रुम शब्दकोश में प्रयत्न से प्रारब्ध का क्षय करने वाले के रूप में की गई है । कूर्म के संदर्भ में यह सार्थक प्रतीत होती है क्योंकि पुराणों में राजा इन्द्रद्युम्न द्वारा कूर्म आदि दीर्घजीवियों के पास जाने की कथा में कूर्म को पिछले जन्म में शाण्डिल्य(अपने प्रारब्ध कर्मों का क्षय करने वाला, शण्ड या नपुंसक बन जाने वाला) कहा गया है । महाभारत में कूर्म को तमोगुणी कहा गया है जो पुराणों में इसी दृष्टिकोण में लिया जाता है । रुद्र जो प्रारब्ध का नाश करते हैं, को तमोगुणी कहा जाता है । वास्तविक छलांग तमोगुण प्राप्त करने के पश्चात् आरम्भ होती है । ऋग्वेद २.२७ सूक्त का ऋषि गृत्समद - पुत्र कूर्म है तथा देवता आदित्य हैं । ऋग्वेद २.२८ का ऋषि कूर्म ही है और देवता वरुण है । ऋग्वेद २.२९ का ऋषि कूर्म है और देवता विश्वेदेवा हैं । प्रथम सूक्त में उषाओं के घटित होने तथा मित्र, वरुण, अर्यमा, भग आदि आदित्यों के उदय होने की कामना की गई है । तैत्तिरीय संहिता ५.२.८.५, मैत्रायणी संहिता ३.२.७, शतपथ ब्राह्मण ७.५.१.७ आदि में स्वयमातृण्णा इष्टका स्थापना के संदर्भ में कहा गया है कि अग्निचिति बनाते समय पहली तीन चितियों/परतों में स्वयमातृण्णा इष्टका के स्थान पर पशुओं के शिर रखते हैं । चौथी चिति में जीवित कूर्म को रखते हैं जिसका मुख नीचे की ओर होता है तथा पांचवी चिति में पुरुष का शीर्ष रखते हैं जिसका मुख उत्तान, ऊपर की ओर होता है । कहा गया है कि कूर्म से पूर्व की चितियां तो श्मशान की  भांति हैं और जीवित कूर्म रखने का निहितार्थ है कि इस श्मशान को अश्मशान बनाना है, जड जगत  में प्राणों का, जीव का संचार करना है । ऋग्वेद २.२७ सूक्त में जो उषाओं और आदित्यों के उदय की बात कही गई है, वहां उषाएं ही जड या सोए हुए जगत में प्राणों का संचार करती हैं । दूसरे शब्दों में, यह तमोगुण की पराकाष्ठा को पार कर एक विशिष्ट प्रकार से चेतन होने की प्रक्रिया है । पुराणों में ओषधि कर्म आदि से पूर्व कूर्म की उपासना के उल्लेख का संदर्भ भी उषाओं के व्युच्छन(ओषधि - ओषं धीयते, जो उषाओं को धारण कराती है, वह)द्वारा व्याख्यात है ।

          पुराणों में सार्वत्रिक रूप से कूर्म के अङ्गों में देशों, नक्षत्रों आदि का न्यास किया गया है । बौधायन श्रौत सूत्र २.५ में अङ्गरोगों को कूर्म में रखने का उल्लेख है । कूर्म की विशेषता यह है कि वह अपने अङ्गों को अन्तर्मुखी करना जानता है । शतपथ ब्राह्मण १.६.२.३ में पुरोडाश को कूर्म कहा गया है । शतपथ ब्राह्मण ६.१.१.१२ में पृथिवी के रस से कूर्म की उत्पत्ति का उल्लेख है । शतपथ ब्राह्मण ७.५.१.३५ तथा १०.५.५.१० में कूर्म को शिर की भांति कहा गया है । यज्ञ में आहवनीय अग्नि शिर होती है । शिर में सारे शरीर के प्राणों का रस होता है , दूसरे शब्दों में, शिर वह भाग है जहां शरीर के प्राण सर्वाधिक पुष्पित अवस्था में रहते हैं । कहा गया है कि आंख, नाक, कान, मुख आदि शरीर के अन्य भागों में भी होते हैं, लेकिन वह विकसित नहीं हो पाते हैं । उदाहरण के लिए, स्तनों को आंख का रूप कहा गया है । इन संदर्भों के आधार पर यह कहा जा सकता है कि कूर्म के अङ्गों में जिन देशों आदि का न्यास किया जाता है, कूर्म शक्ति उन जड देशों में चेतना का विस्तार करने में, उन्हें शिर: स्थानीय बनाने में समर्थ है । संहिता व ब्राह्मण ग्रन्थों में सार्वत्रिक रूप से(शुक्ल यजुर्वेद २४.३४, मैत्रायणी संहिता ३.२.१४ आदि)कूर्म को द्यावापृथिवीय कहा गया है । उपरोक्त वर्णन से इस कथन का अर्थ स्पष्ट हो जाता है ।

          पुराणों में इन्द्रद्युम्न तथा कूर्म की कथा के संदर्भ में इन्द्रद्युम्न शब्द पर टिप्पणी द्रष्टव्य है । मुख्य  तथ्य यह है कि कूर्म पुराण में कूर्म क्षत्रिय से विप्र बनने वाले इन्द्रद्युम्न को कूर्म पुराण सुनाता है । द्युम्न को पृथिवी से उत्पन्न होने वाली कहा गया है, अन्यत्र पृथिवी से अग्नि रूपी ज्योvति का विकास होता है । तैत्तिरीय संहिता २.६.३.३ व शतपथ ब्राह्मण १.६.२.३ में सर्पण करने वाले कूर्म रूपी पुरोडाश का उल्लेख है जो अश्विनीकुमारों, सरस्वती, इन्द्र के लिए भी स्थिर नहीं हुआ, लेकिन अग्नि का नाम लेते ही वह स्थिर हो गया । अतः यह विचारणीय है कि इन्द्रद्युम्न व अग्नि में कितनी समानता  है ।

          पुराणों में सार्वत्रिक रूप से विष्णु के कूर्म अवतार के उल्लेख आते हैं । विष्णु सोम या चन्द्रमा का रूप है । ऋग्वेद में तो सूक्त २.२७ आदित्य देवताओं का है । इससे अगले सूक्त वरुण व विश्वेदेवों  के हैं । पुराणों में आदित्यों से भी परे विष्णु के कूर्म रूप धारण की कल्पना कैसे की गई है, यह कहीं अन्तर्निहित प्रतीत होता है । वास्तु में कूर्म इष्टका की स्थापना करते समय उसके पृष्ठ पर मधु व दधि का लेप किया जाता है । इस संदर्भ में काठक संहिता २०.७ का कथन है कि जो मधु है, वह आपः का, ओषधि का रस है, सार भाग है । जो दधि है, वह पशुओं का मेध है । पुराणों में सार्वत्रिक रूप से कूर्म पृष्ठ की तुलना प्रलयकाल में वृक्षों से रहित भूमि के पृष्ठ से की गई है । लेकिन वास्तु के कूर्म के पृष्ठ पर मधु और दधि की उत्पत्ति स्वाभाविक रूप से किस प्रकार होगी, यह अन्वेषणीय है ।

          उपनिषदों में सार्वत्रिक रूप से कूर्म प्राण को चक्षु के निमीलन - उन्मीलन से सम्बद्ध किया गया है(त्रिशिखब्राह्मणोपनिषद २.८६, जाबालदर्शनोपनिषद ४.३४, योग चूडामण्युपनिषद २३ आदि)। शाण्डिल्योपनिषद १.७.५२ में चित्त को कूर्म नाडी में ले जाने पर स्थैर्य प्राप्त करने का उल्लेख है । वनदुर्गोपनिषद ४२२ में वासुकि नाग के कूर्म पर आरूढ होने का उल्लेख है । स्वर्गीय स्वामी योगेश्वरानन्द ने अपनी पुस्तक प्राण विज्ञान में राजसिक कूर्म प्राणों को चक्षु के निमीलन - उन्मीलन से तथा सात्त्विक कूर्म प्राणों को त्राटक से सम्बन्धित कहा है और उल्लेख किया है कि एक बार त्राटक में पंहुचने पर फिर बहुत से आन्तरिक प्रकाशों का विस्तार होता है ।

          षड्-विंश ब्राह्मण ५.५.२ में उल्लेख है कि आदित्य को मन्देहा आदि राक्षसों से भय होने पर उसका हृदय कूर्म हो गया । इस आदित्य की असुरों से रक्षा के लिए ही सन्ध्याओं के समय में जल के छींटे(विप्रुड्~)रूपी वज्र मार कर आदित्य की रक्षा करते हैं । यह कथन संकेत करता है कि किरणों से रहित संवृत्तावस्था कूर्म रूप है, जबकि किरणों सहित विराट् अवस्था आदित्य रूप है । तैत्तिरीय आरण्यक १.२३.३ में कूर्म के विराट् रूप का उल्लेख है ।

          शुक्ल यजुर्वेद संहिता २५.३, तैत्तिरीय संहिता ५.७.१३.१ तथा अथर्ववेद ९.४.१६ में अश्व के शफों को कूर्मों को देने का उल्लेख है । प्रवर्ग्य याग में महावीर पात्र को, जिसमें घृत पकाया जाता है और जिसमें दुग्ध का सिंचन करने पर विशाल घर्म उत्पन्न होता दिखाया जाता है, काष्ठ से बने शफों से ग्रहण किया जाता है । ऋग्वेद के नवम मण्डल में अश्व के शफों द्वारा सुरा के ग्रहण का उल्लेख है ।

          कथासरित्सागर में सरोवर में जल के शुष्क हो जाने पर हंसों द्वारा दण्ड पर कूर्म को ढोने की कथा है । बीच में कूर्म बोलने के लिए मुख से पकडे हुए दण्ड को छोड देता है और मर जाता है । इस संदर्भ में ब्राह्मण ग्रन्थों में वाक् और कूर्म के सम्बन्ध द्रष्टव्य हैं । शतपथ ब्राह्मण ७.५.१.३५ में कूर्म को पशुरूपी अग्नि का शिर व अषाढा नामक इष्टका को ग्रीवा कहा गया है । शतपथ ब्राह्मण में कूर्म को वृषा और अषाढा को योषा कहा गया है जिसमें कूर्म रेतः सिंचन करता है । कूर्म के ऊपर व नीचे  अवका(अवाक् का प्रतीक)घास रखी जाती है जो आपः का प्रतीक होती है ।

प्रथम प्रकाशन- 2005ई.(विक्रम संवत् २०६२)

Make a free website with Yola